CGS System and MKS System: सीजीएस और एमकेएस पद्यति को समझे

CGS System and MKS System: सीजीएस और एमकेएस पद्यति को समझे

CGS System and MKS System: सीजीएस और एमकेएस पद्यति को समझे

CGS प्रणाली CGS System: इस सिस्टम में लंबाई को सेमी में, भार को ग्राम में तथा समय को सेकंड में मापा जाता हैं। ये इकाइयां बहुत छोटी होती हैं, इसलिए आजकल अधिकतर MKS प्रणाली का प्रचलन है।

MKS प्रणाली MKS System

इस प्रणाली में लंबाई को मीटर, भार को किग्रा तथा समय को सेकंड में मापा जाता है। CGS प्रणाली की सभी इकाइयां MKS प्रणाली में समायोजित हैं इसे मीट्रिक प्रणाली भी कहते हैं। इसमें लंबाई की इकाई मीटर को पेरिस में 0°C पर रखी एक प्लैटिनम-इरेडियम की छड़ पर, दोनों सिरों पर बने चिन्हों के बीच की दूरी के द्वारा मानक बनाया गया है। इस प्रणाली में लंबाई की बड़ी यूनिट किमी होती है, जिसको निम्न प्रकार बांटा गया है

  • 1 किलोमीटर = 10 हेक्टोमीटर
  • 1 हेक्टोमीटर = 10 डेकामीटर
  • 1 डेकामीटर = 10 मीटर
  • 1 मीटर = 10 डेसीमीटर
  • 1 डेसीमीटर = 10 सेंटीमीटर
  • 1 सेंटीमीटर = 10 मिलीमीटर
CGS System and MKS System: सीजीएस और एमकेएस पद्यति को समझे
CGS System and MKS System: सीजीएस और एमकेएस पद्यति को समझे

कोण को मापने की इकाइयां (Unitys of Angle Measurement)

कोण को डिग्री में मापा जाता है। इसलिए हम किसी भी वृत्त को 360° में विभक्त कर लेते हैं, जिसका प्रत्येक भाग 1°के बराबर गिना जाता है। तत्पश्चात् हर डिग्री को 60 बराबर भागों में विभक्त करके उसके हर भाग को मिनट के नाम से पुकारते हैं। अंत में एक मिनट के फिर 60 भाग करके उससे होने वाले प्रत्येक भाग को 1 सेकंड का नाम देते हैं

  • 1 वृत्त = 360 डिग्री
  • 1 डिग्री = 60 मिनट
  • 1 मिनट = 60 सेकंड

कार्यशाला में डिग्री, मिनट तथा सेकंड को प्रदर्शित करने वाले चिन्ह (Symbols for Representing Degree, Minutes and Seconds)

जब भी कोई इंजीनियर कार्यस्थल पर कार्य करता रहता है तो उसे डिग्री, मिनट तथा सेकंड को प्रदर्शित करने के लिए प्रत्येक जगह शब्दों में लिखना नहीं हो पाता है। इसलिए उन मानव के जगह पर एक निश्चित सिंबल का प्रयोग किया जाता है। जिससे समय तो बनती ही है साथ में लिखने में भी सुविधा होता है। इस सिंबल की सहायता से कोई भी यह जान सकता है कि क्या लिखा गया है। नीचे उन इकाइयों के बदले प्रयोग किए जाने वाले चिन्ह को एक-एक करके दर्शाया जा रहा है।

  • डिग्री = (°) ब्रैकिट के अंदर वाला चिन्ह अंक के ऊपर लगाते हैं।
  • मिनट = (‘) ब्रैकिट के अंदर वाला चिन्ह अंक के ऊपर लगाते हैं।
  • सेकंड = (”) ब्रैकिट के अंदर वाला चिन्ह अंक के ऊपर लगाते हैं।
  • जैसे- 15 डिग्री 10 मिनट 5 सेकंड को निम्नलिखित विधि से प्रस्तुत करते हैं
  • (15°-10′-5”) ब्रिटिश प्रणाली

ब्रिटिश तथा मीटरी प्रणाली में संबंध (Relation between British and metric System)

ब्रिटिश तथा अमेरिका नाली को समझने के लिए आपको नीचे बताए गए जानकारी को ध्यान से पढ़ना होगा उसके बाद आप बिल्कुल समझ पाएंगे की ब्रिटिश का फाइनल पेपर नाली में क्या मिलता है। ब्रिटिश तथा मीटरी प्रणाली में लंबाई की माप में नीचे बताए अनुसार संबंध बताए जाते हैं जिसे देखकर आप बिल्कुल आसान तरीके से समझ सकते हैं।

  • 1 इंच = 2.25 सेमी   =25.4 मीमी
  • 1 फुट = 30.48 सेमी   =0.3048 मीटर
  • 1 गज = 0.914 मीटर
  • 1 सेमी = 0.394 इंच
  • 1 मीटर = 39.37   =1.094 गज

साधारण मापक यंत्र (General Measuring Instruments)

विभिन्न प्रकार के इंजीनियरिंग उत्पादन में वस्तुओं को मापने की आवश्यकता रहती है। इसके लिए आवश्यकतानुसार साधारण मापक यंत्र या सूक्ष्म मापक यंत्र प्रयोग में लाए जाते हैं। यहां पर हम विविध मापक यंत्रों का अध्ययन करेंगे। ये यंत्र निम्न प्रकार है

लंबाई मापने वाले यंत्र (Length Measuring Instruments)

जॉब की लंबाई मापने के लिए विभिन्न प्रकार के यंत्र प्रयोग किए जाते हैं। इनके लिए अलग-अलग धातुएं प्रयोग की जाती है तथा इनकी लंबाईयां भी अलग-अलग होती हैं। कुछ साधारण यंत्र निम्न प्रकार हैं

रूल (Rule)

रूल अधिकतर लकड़ी के प्रयोग किए जाते हैं जिन पर इंचो या सेमी में निशान बने होते हैं। कभी-कभी धातु के रूल भी प्रयोग किए जाते हैं। इनके द्वारा जॉब की लंबाई सूक्ष्मता से नहीं मापी जा सकती। ये दो प्रकार के होते हैं 

  1. सीधे रूल (Straight Rule) तथा
  2. फोल्डिंग रूल (Folding Rule)।

फोल्डिंग रूल 1 मी या 2 मी तक लंबाई माप सकते हैं इनको फोल्ड करके 15 सेमी या 30 सेमी तक किया जा सकता है। ये भी लकड़ी या किसी अन्य सॉफ्ट धातु के बने होते हैं। इनका प्रयोग अधिकतर कारपेंटर या पैटर्न मेकर करते हैं।

Spread the love

Leave a Comment

Scroll to Top